earth's interior hindi
print

लाप्लास का नेब्यूलर सिद्धांत

  • इस सिद्धांत के अनुसार, एक तेज गति के साथ घूर्णन करता हुआ एक नेबुला (हाइड्रोजन और हीलियम का बादल) स्थित था।
  • नेबुला से ऊष्मा विकिर्णित हुयी तथा ऊष्मा में कमी आने के कारण यह ठंडा हुआ तत्पश्चात अनुबंध शुरू हुआ और धीरे-धीरे यह एक ठोस रूप में परिवर्तित हो गया।
  • लेकिन जब यह बड़ी गति से घूम रहा था (ठोस रूप में परिवर्तित होंने से पहले) तब एक छल्ला उसके भूमध्य रेखा से अलग हो गया।
  • यह छल्ला नौ भागों में टूट गया जो गैसीय अवस्था में थे| ये हिस्से घुमते रहे तथा संकुचित हो कर ठंडा हो गये जिससे नौ ग्रह का निर्माण हुआ ।
  • पृथ्वी के मामले में भारी तत्व कोर में जमा हो गए तथा सतह (घूर्णन संपत्ति) पर हल्के तत्व जमा हो गए।
  • इसका अर्थ है कि जब हम सतह से मूल तक जाते हैं तो घनत्व बढ़ता जाएगा।
  • गहराई में वृद्धि से तापमान बढ़ता है (कोर में अवशिष्ट ऊर्जा की मौजूदगी के कारण)।

Read in English-Seismic study of the structure of the earth

पृथ्वी के आंतरिक भाग का संरचनात्मक अध्ययन

  • खानों और ज्वालामुखी विस्फोट द्वारा प्रत्यक्ष साक्ष्य उपलब्ध हो जाते हैं, लेकिन ये केवल कुछ किलोमीटर तक पाए जाते है
  • अप्रत्यक्ष सबूत पृथ्वी के अंदर तापमान और दबाव द्वारा प्रदान किया जाता है तथा इसके विभिन्न गोलो का घनत्व, भूकंप तरंगों का व्यवहार, उल्काओ के सबूत, गुरुत्वाकर्षण और चुंबकीय क्षेत्र से भी सबूत प्राप्त होते है
  • एक ऑस्ट्रियाई भूविज्ञानी एडवर्ड सुसे ने कहा कि कोर निकल और आयरन से बना है तथा मेण्टल और समुद्री क्रस्ट सिमा (सिलिका और मैग्नीशियम) से बना है और बाहरी परत या महाद्वीपीय परत सियाल (सिलिका और एल्युमीनियम) से बना है।

पृथ्वी के आन्तरिक भागो के भूकंपी लहर का अध्ययन

Also read- The Cauvery Issue- Deciphering the Water War

  • सभी प्राकृतिक भूकंप लिथोस्फेयर (पपड़ी और ऊपरी आवरण) में होते हैं।
  • भूकंपी लहरें पृथ्वी की संरचना के अप्रत्यक्ष प्रमाण प्रदान करती हैं।
  • भूकंपी तरंगें या भूकंप यांत्रिक तरंग हैं जिनके प्रसार के लिए एक माध्यम की आवश्यकता होती हैं।
  • उनका व्यवहार माध्यम के परिवर्तन के साथ बदलता है।

भूकंपी लहरें तीन प्रकार की होती है

  • प्राथमिक (P) लहर: यह एक अनुदैर्ध्य लहर है। यह तीनो माध्यमों में जा सकता है जैसे, ठोस, तरल, और गैस।लेकिन इसकी गति ठोस में सबसे अधिक होती है, इसके बाद तरल पदार्थ और गैसों में सबसे कम होती है।
  • द्वितीयक (S) लहर: यह एक अनुप्रस्थ लहर। यह लहर केवल ठोस और गैसों में यात्रा कर सकती है।
  • सतही (L) लहर: इसे लंबी लहर भी कहा जाता है । भूकंप सूचक यंत्र (सिस्मोग्राफ) पर इसे सबसे अंत में रिपोर्ट किया जाता है तथा यह सबसे ज्यादा विनाशकारी लहरे होती है।
  • P और S तरंगों के साथ प्रयोग करने पर यह पाया जाता है कि पृथ्वी के अंदर विभिन्न क्षेत्रों की सीमाओं को पार करने के क्रम में तरंगों की गति और वेग में परिवर्तन होता है।
  • ‘P’ और ‘S’ लहरे गहराई के साथ बढ़ती है लेकिन केवल 2,900 किमी तक ही यह वृद्धि होती है।
  • इसके बाद S-लहरें अपने गति की दिशा में गुजरती हैं जोकी पास नहीं हो पाती है।
  • P लहरें आम तौर पर अपने गति की दिशा में कम वेग पर पास हो जाती हैं।
  • लंबी (L) तरंगें पार नहीं होती हैं तथा पृथ्वी में गहराई तक नहीं जाती हैं।
  • बाहरी कोर की तुलना में आंतरिक कोर के माध्यम से होकर जाते हुए P तरंगों की गति पुनः बढ़ जाती है।
  1. दोनों तरंगों की गति लिथोस्फीयर में बढ़ जाती है जोकि यह दर्शाती है कि यह ठोस अवस्था में है।
  2. पी-तरंगों की गति एथिंसोफ़ेयर में घट जाती है, लेकिन एथेस्नोफ़ेयर तरल अवस्था में नहीं है क्योंकि S-तरंगे निम्न गति से हो कर इसमें से गुजरती है। इसका अर्थ है कि ऐथेनॉस्फियर अर्ध-पिघले हुए अवस्था में है।
  3. मेन्टल चट्टाने एथेस्नोफ़ेयर से ज्यादा घने हैं क्योंकि इसमें दोनों तरंगों की गति बढ़ जाती है
  4. बाहरी कोर तरल अवस्था में है क्योंकि P लहरें इसमें कम गति से फैलती हैं और S तरंग इसमें अनुपस्थित हैं
  5. आंतरिक कोर ठोस अवस्था में है क्योंकि P-तरंगों की गति इसमें काफी बढ़ जाती है।

Note: Want to share this story with someone? Just click on the icons below.

Leave a Reply