oil spill hindi
Source: Wikimedia
print

तेल फैलाव क्या है?

  • तेल फैलाव का मतलब आम तौर पर समुद्र में फैलने से निकाला जाता है। यह आमतौर पर टैंकरों में तेल की ढुलाई या जब गलती से एक रिफाइनरी से छूटने से, भंडारण की सुविधा से, पानी के नीचे पाइप लाइन या अपतटीय तेल ड्रिलिंग रिग के दौरान होता है। फैलाव जमीन पर भी हो सकता है।

कैसे यह तेल जल निकायों तक पहुंचता है?

  • एक-तिहाई और एक से डेढ़ तिहाई के लगभग तेल समुद्र में प्राकृतिक रूप से उत्पन्न रिसाव से आते है जैसे- समुन्द्री सतह के स्प्रिंग्स, जहां तेल से युक्त अवसादों से तेल रिसकर तैरते हुए बढ़ते है।
  • तेल की ड्रिलिंग के ऑपरेशन से समुद्र में कुछ तेल जाता है, लेकिन यह नगण्य है।
  • तेल की बड़ी मात्रा का समुद्री वातावरण में प्रवेश टैंकरों और उनके निर्वहन से होता है ।अब, हमारे पास इस तरह के निर्वहन को कम करने के लिए नियम है।
  • मशीनों और कार या अन्य वाहनों से उत्सर्जन एवं टपकाव से जो तेल जमीन पर जमा हो जाते है वो फलतः हमारे जलमार्गो में चले आते है।
  • वातावरण में इंजन निकास से जीवाश्म ईंधन हाइड्रोकार्बन भी जमा है, कभी-कभी यह कालिख हमारे पानी में जमा हो जाते है।
  • यहाँ तक कि नावों और अन्य जहाजों के संचालन भी तेल रिसाव में योगदान कर सकते हैं।
  • तेल फैलाव समुद्र धाराओं के माध्यम से और लहर के कारण गति करते हैं, लहरे तेल के जमाव को छोटे भागों में तोड़ती भी है।

Read in English Oil spill impacts and solutions

तेल रिसाव के प्रभाव

  • फर को अलग करने की क्षमता होती है तथा पक्षी का पंख पानी-तेल के प्रतिकर्षण से प्रभावित होता है। इस कठोर परिस्थिति में हाइपोथर्मिया के कारण उनका प्रदर्शन प्रभावित होते है और बाद में उनकी मौत हो जाती हैं तथा इसके कारण ये पानी में बहुत कम तैर पाते हैं।
  • यह तेल कुछ पक्षियों और जानवरों के लिए विषाक्त भी साबित हो सकता है, यह एक अलग तरीके से मछलीयो को प्रभावित करता है- यह प्रदूषित तेल वयस्क मछली के विकास में वृद्धि को कम कर सकते हैं तथा उनके जिगर का विस्तार होता है तथा दिल और पंख को भी नुकसान पहुंचता है। यह तेल अंडे और लार्वा के अस्तित्व को भी प्रतिकूल रूप से प्रभावित करता है।
  • तेल फैलाव जलीय प्रजातियों के ऑक्सीजन की आपूर्ति को प्रभावित कर सकते हैं इसलिए ढेर सारी प्रजातिया मर जाती है।
  • पशु जो अपने बच्चों या माताओं का पता लगाने के लिए खुशबू पर भरोसा करते है वो तेल की मजबूत गंध की वजह से उनका पता नहीं कर पाते हैं, इस कारण एक बच्चे को अस्वीकार कर दिया जाना और बच्चों को भूखा छोड़ना और उनका परित्यक्त हो जाने से अंत में वो मर जाते है।
  • यह तेल चिड़ियो की उड़ान भरने की क्षमता को या शिकारियों से बचने की क्षमता को क्षीण कर सकते हैं, भोजन के लिए टहलने में ये सब चीजें बाधा उत्पन्न कर सकती है ।
  • लोग को तेल फैलाव से प्रदूषित समुद्र तटों के पास जाने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए, क्योंकि यह त्वचा के लिए बहुत हानिकारक है तथा इस तरह के ईंधन में बेंजीन पाया जाता है जो श्वास लेने में भी हानिकारक है ।
  • प्रदूषित तेल पीने के पानी की आपूर्ति को भी दूषित कर सकते हैं।
  • जल निकायों के प्रदूषित होने से पर्यटन और समुद्री संसाधन निष्कर्षण उद्योगों पर एक आर्थिक प्रभाव पड़ सकता है।
  • यह मछुआरों की आजीविका प्रभावित करता है।

हो चुके नुकसान को कम करना

  • तेल रिसाव को साफ करने का तरीका – इसमें नलियो से चारों ओर के तेल की चिकनाई को अलग करते हैं तथा किनारे पर स्किमर्स एक टैंक में तेल को चूस लेते है।
  • नियंत्रित रूप से जलाने की क्रिया से पानी में तेल की मात्रा को प्रभावी ढंग से कम कर सकते हैं। लेकिन यह केवल कम हवा में किया जा सकता है तथा वायु प्रदूषण का कारण बन सकता है।
  • तेल को तोड़ने के लिए रसायन बिखराव (Dispersing) एक और तरीका है। डिस्पेर्संट्स से तेल की बूंदों में चिकनाई को तोड़ते है, जो बाद में जलीय प्रणाली में लीन हो जाता है।
  • फ़रवरी 2016 में, चेन्नई में हाल की घटना में, मध्य समुद्र में तेल चिकनाई को बेअसर करने के लिए Biodegradable तेल फैलाव बिखराव(Oil Spill Dispersant) (ओएसडी) का छिड़काव किया गया था।

Biodegradation

  • समुद्र या समुद्र के पानी में कुछ रोगाणु तेल को डीग्रेड करके पानी में घुलनशील यौगिक बना सकते है जो अंततः  कार्बन डाइऑक्साइड हो जाता है। हालांकि, तेल में कुछ यौगिकों गिरावट के लिए प्रतिरोधी होते हैं। यह काफी हद तक पानी में पोषक तत्वों (नाइट्रोजन और फास्फोरस) के स्तर के लिए जिम्मेदार होता है। यह पानी में तापमान और ऑक्सीजन के स्तर पर भी निर्भर करता है लेकिन तेल के स्तर को कम करने के लिए सूक्ष्म जीवाणुओं की एक विस्तृत श्रृंखला की आवश्यकता होती है। Biodegradation गर्म पानी में सबसे अच्छा काम करता है, कभी कभी पोषक तत्व के जुड़ने से इस प्रक्रिया में तेजी आती है।
  • जब कुछ भी नहीं काम करता है तब स्वाभाविक रूप से तेल को तितर-बितर होने के लिए छोड़ दिया जाता है, सूरज और लहरों से अधिकतम तेल वाष्पीकृत हो कर लुप्त हो सकते हैं।

समुद्री तेल फैलाव के लिए एक अभिनव समाधान

  • भारत के शोधकर्ताओं ने असाधारण हाइड्रोफोबिक और अत्यंत उच्च तेल को आकर्षित करने के गुणों के साथ (oleophilic) एक झिल्ली का विकास किया है। इसे संभावित समुद्री तेल फैलाव के चुनौतीपूर्ण मुद्दे के लिए विश्व स्तर पर निपटने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • अल्ट्रा हायड्रोफोबिसिटी फ्लोरीन के एक उच्च घनत्व के साथ धातु कार्बनिक फ्रेमवर्क सिंथेसिसिंग द्वारा प्राप्त किया गया था। फ्लोरीन प्रकृति में स्वाभाविक हाइड्रोफोबिक है और किसी भी सामग्री में फ्लोरीन युक्त होने से हाइड्रोफोबिक हो जाता है।
  • अत्यधिक हाइड्रोफोबिक होने के नाते MOF झिल्ली में साफ़ तौर पर ओलेओफिलिक(oleophilic) या तेल को आकर्षित करने की प्रकृति होती है।
  • जब पानी और तेल का मिश्रण झिल्ली के माध्यम से पारित होता है तब तेल तेज़ी से अवशोषण द्वारा रिसता है जबकि पानी झिल्ली के ऊपर टिका रहता है इसलिए यह झिल्ली एक फिल्टर के रूप में कार्य करती है।

Leave a Reply