nisar hindi
Source: NASA
print
  • भारत और संयुक्त राज्य अमेरिका ने अंतरिक्ष सहयोग का एक इतिहास साझा किया, 1963 में भारत ने अपना पहला यू.एस. निर्मित ध्वनि रॉकेट लॉन्च किया।
  • 1970 में इसरो और नासा ने सैटेलाइट निर्देशात्मक टेलीविज़न प्रयोग (एसईटीई) का प्रयोग किया, जिससे भारत भर में 2400 से अधिक गांवों में टेलीविजन कार्यक्रमों को बीम करने में मदद मिली।
  • इसके अलावा, 2008 में, चंद्रयान I – चंद्रमा के लिए भारत का पहले मिशन में अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों द्वारा वैज्ञानिक उपकरणों को बनाया गया था जिनमें नासा के भी दो उपकरण थे।

Read in English: ISRO & NASA Collaborate to Build NISAR Satellite

NISAR

  • एनआईएसएआर(NISAR) या नासा-इसरो सिंथेटिक एपर्चर रडार दोनों एजेंसियों के बीच नवीनतम सहयोगी परियोजना है जिसके अंतर्गत एक महत्वाकांक्षी पृथ्वी निगरानी उपग्रह को 2021 में लांच किया जाएगा।
  • नासा-इसरो उपग्रह मिशन को लॉन्च करने के लिए नासा और इसरो ने दो दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • मिशन का उद्देश्य, नासा की वेबसाइट के अनुसार, पृथ्वी का निरीक्षण करना तथा मंगल ग्रह के अन्वेषण के लिए भविष्य के संयुक्त मिशनों के लिए एक मार्ग को स्थापित करना है।
  • NISAR नासा और इसरो के बीच यह पहला बड़ा सहयोग है, जैसाकि एनडीटीवी द्वारा बताया गया है।
  • टीम के अनुसार एनआईएसएआर एक दो आवृत्तियो वाला राडर है, यह एक एल-बैंड 24 सेंटीमीटर राडार और एस-बैंड 13 सेंटीमीटर है। एस-बैंड का निर्माण इसरो द्वारा किया जा रहा है जबकि नासा द्वारा एल बैंड की जिम्मेदारी ली जा रही है ।
  • उपग्रह दो रडारों का उपयोग करके पृथ्वी के साप्ताहिक स्नैपशॉट लेगा, जो कि टेक्टोनिक प्लेट्स, हिम शीट और कृषि और वनों में भूमि के ऊपर वनस्पति में परिवर्तन की गति का समय-अंतराल चित्र प्रदान करेगा।
  • परियोजना पर काम करने वाले एक वैज्ञानिक के मुताबिक, “हम जो कर रहे हैं वह यह समझने के लिए है कि आपदाएं कैसे विकसित होती हैं, इस मिशन के जीवनकाल में पृथ्वी के समय में परिवर्तनशीलता को देख रहे है तथा ज्वालामुखी कैसे होते हैं, बर्फ की चादरें कैसे बदल रही हैं और समुद्र के स्तर में वृद्धि को कैसे प्रभावित कर रही है तथा जंगल की आग तथा जंगल के आवरण में परिवर्तन वातावरण को कैसे प्रभावित करते हैं। “
  • दोनों देशों के लिए 1.5 अरब डॉलर की लागत की संभावना है, इस सैटेलाइट के दुनिया के सबसे महंगे धरती इमेजिंग सैटेलाइट होने की संभावना है।
  • जिओ-सिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हेकल (जीएसएलवी) का इस्तेमाल करते हुए अब से चार साल बाद भारत से शुरू होने वाली NISAR उपग्रह भारत-अमेरिका संबंधों को और मजबूत करने का वादा भी करता है।
  • नासा ने इसरो के पहले स्वदेशी रडार इमेजिंग सैटेलाइट (RISAT -1) की सराहना की थी, जो सभी मौसमों के दौरान दिन और रात में पृथ्वी की सतह के इमेजिंग को सक्षम बनाता है।

Leave a Reply