happiness index
Source: Wikimedia
print
  • मध्यप्रदेश सरकार ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान- खड़गपुर को यह मात्रात्मक उत्तर देने की जिम्मेदारी दी है कि ख़ुशी कैसे आती है तथा लोग वास्तव में कितने खुश हैं?
  • राज्य सरकार ने पिछले साल जुलाई में आनंद मंत्रालय या खुशी का मंत्रालय स्थापित किया था जिसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उसके पहले “खुशी मंत्री” थे।
  • 16 मई, 2017 को, उनकी सरकार ने आईआईटी-खड़गपुर (Happiness Centre का एकमात्र संस्थान) के साथ राज्य के लिए एक खुशी सूचकांक तैयार करने के लिए समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया था।
  • “हम राज्य खुशी सूचकांक विकसित करने के लिए आईआईटी-खड़गपुर के साथ सहयोग कर रहे हैं। हाल के दिनों में, भूटान और ग्रेट ब्रिटेन जैसे देशों ने इस क्षेत्र में काम किया है या डॉ एड डेनिअर द्वारा तैयार किए गए जीवन संतुष्टि पैमाने पर काम किया है। प्राचीन भारतीय ज्ञान जो पूर्ति और आनन्ददायक जीवन के तरीकों का सुझाव देता है उसने कभी इसकी प्रासंगिकता नहीं खोयी है, उस पुरानी बुद्धिमत्ता को ऐसे तरीके से वापस लाया जाना चाहिए जिसे समकालीन समाज समझता है तथा उसकी सराहना करता है, “-श्री चौहान ने द हिन्दू को बताया।

Read in English: Madhya Pradesh to devise Happiness Index

122 वे स्थान पर 

  • रिकॉर्ड के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा लाया गया 2017 के वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में भारत 122 वें स्थान पर निराशाजनक स्थिति में रहा जोकि 2016 के सर्वेक्षण से पांच अंक नीचे रहा, तब यह 118 वें स्थान पर था।
  • आईआईटी-खड़गपुर के लिए संक्षिप्त एक प्रश्नावली तैयार करना है जो मूर्त और अमूर्त चीज़ों के साथ लोगों के खुशियों का स्तर दिखायेगा।
  • वे सबसे पहले दुनिया भर में ऐसे सभी सूचकांकों का सर्वेक्षण करेंगे तथा अपनी खुद की प्रश्नावली तैयार करेंगे और शासन तथा भौतिक चीज़ों से संबंधित मुद्दों पर लोगों की धारणाओं को शामिल करेंगे और दिसंबर में एक कार्यशाला के माध्यम से एक सत्यापन प्रक्रिया होगी। केवल विकसित इंडेक्स के सत्यापन के बाद ही राज्य में खुशी का स्तर निर्धारित करने के लिए मध्य प्रदेश के 25,000 से अधिक उत्तरदाताओं का एक बड़ा पैमाने पर सर्वेक्षण किया जाएगा।

इस कदम के खिलाफ आवाज़ें

  • मुख्यमंत्री इस बात पर कोई भी सवाल लेने के लिए तैयार दिखाई दिये कि क्या यह ‘ज़रा सी खोज’ शासन के लिए एक उपयुक्त विषय था।
  • क्या सरकारों को अपने नागरिकों के लिए मूलभूत सामग्री को व्यवस्थित करने के बारे में अधिक चिंतित नहीं होना चाहिए?

 

Leave a Reply