india-srilanka relations hindi
print

संक्षिप्त इतिहास और पृष्ठभूमि (Read in English)

  • भारत श्रीलंका का एकमात्र और सबसे करीबी पड़ोसी है जोकि पाक जलडमरूमध्य द्वारा अलग होता है।
  • दोनों देश बौद्धिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और भाषाई समागम की विरासत को बांटते हुए 2500 से अधिक वर्षों के एक रिश्ते का हिस्सा रहे है।
  • दोनों देश ने आम तौर पर एक मिलनसार संबंध साझा किया है लेकिन विवादास्पद श्रीलंकाई नागरिक युद्ध और युद्ध के दौरान भारतीय हस्तक्षेप की विफलता से प्रभावित हुए।
  • दोनों ही देशो का दक्षिण एशिया में एक रणनीतिक स्थान पर कब्जा है तथा हिंद महासागर में एक आम सुरक्षा छतरी का निर्माण करने की मांग की है।
  • ऐतिहासिक और सांस्कृतिक रूप से दोनों देशों एकदूसरे के काफी करीब है, 70% श्रीलंकाई वर्तमान में भी थेरवाद बौद्ध धर्म का लगातार पालन करते आ रहे है।
  • हाल के वर्षों में श्रीलंका चीन के करीब हो गया है, विशेष रूप से नौसेना समझौतों के संदर्भ में। भारत ने संबंधों में सुधार के लिए एक परमाणु ऊर्जा समझौते पर हस्ताक्षर किया है।

Also Read: भारत-किर्गिज़स्तान संबंध: India-Kyrgyzstan Relations in Hindi

  • श्रीलंका के राजा देवनम्पिया टिस्सा के शासनकाल के दौरान भारतीय सम्राट अशोक के पुत्र आदरणीय महिंदा द्वारा 4 शताब्दी ईसा पूर्व में बौद्ध धर्म का श्रीलंका में परिचय हुआ।
  • इस समय के दौरान, बोधि वृक्ष का एक पौधा श्रीलंका में लाया गया तथा प्रथम मठ और बौद्ध स्मारक स्थापित किए गए।
  • इन के अलावा, इसुरुमुनि-विहार और वेस्सागिरी-विहार पूजा के महत्वपूर्ण केंद्र बने हुये हैं।
  • अशोक को पथमक-चैत्य, जम्बोकोला-विहार और हत्थाल्हाका-विहार तथा चायख़ाने के निर्माण का भी श्रेय दिया जाता है।
  • पाली पहले एक मौखिक परंपरा के रूप में संरक्षित थी जिसे 30 ईसा पूर्व के आसपास लिखित रूप में करने के लिए श्रीलंका प्रतिबद्ध था।
  • 4थी शताब्दी में अपने शुरूआत के बाद, एक बड़े तथा अटूट वंश के रूप में अस्तित्व में रहने वाला संघा है, किसी भी बौद्ध राष्ट्र के बौद्ध धर्म के सबसे लंबे समय तक का निरंतर इतिहास श्रीलंका में है।
  • श्रीलंका में सबसे अधिक तमिलो के पूर्वज भारत से थे।

   द्विपक्षीय व्यापार

  • दोनों देश कई क्षेत्रीय और बहुपक्षीय संगठनों के सदस्य देश हैं जैसे कि दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (दक्षेस), दक्षिण एशिया सहकारी पर्यावरण कार्यक्रम, दक्षिण एशियाई आर्थिक संघ और बिम्सटेक ।
  • भारत-श्रीलंका के बीच एक द्विपक्षीय मुक्त व्यापार समझौते पर हस्ताक्षर किया गया जो 2000 में प्रभाव में आया था।
  • तब से द्विपक्षीय व्यापार में 2004 तक 128% की वृद्धि हुई तथा 2006 तक चार गुना हो गयी जोकि 2.6 अरब अमेरिकन $ तक पहुंच गया।
  • भारतीय निर्यात श्रीलंका के 14% वैश्विक आयात का जिम्मेदार है।
  • श्रीलंका के सामान निर्यात का भारत पांचवां सबसे बड़ा निर्यात गंतव्य है जोकि इसके निर्यात का 3.6% है।
  • दोनों ही देशो ने दक्षिण एशिया मुक्त व्यापार समझौता (SAFTA) पर हस्ताक्षर किये हैं।
  • वर्ष 2010 को द्विपक्षीय व्यापार के लिए सबसे अच्छा साल होने की भविष्यवाणी हुई है, भारत को श्रीलंका के निर्यात में वर्ष के पहले सात महीनों में 45% बढा है।
  • 2011 में, श्रीलंका को भारत के निर्यात 4.3 बिलियन $ तक की राशि का था, जिसमे 2010 की तुलना में 75% की वृद्धि हुई है।
  • 2012 में द्विपक्षीय व्यापार 4.002 अरब $ की राशि तक था, 2011 की इसी अवधि की तुलना में 17.59% की गिरावट दर्ज की गयी।
  • हमारा मुख्य निवेश पेट्रोलियम खुदरा, अस्पतालों, दूरसंचार, वनस्पति, तांबा और अन्य धातु उद्योग, रियल एस्टेट, दूरसंचार, आतिथ्य एवं पर्यटन, बैंकिंग और वित्तीय सेवाओं, आईटी और खाद्य प्रसंस्करण (चाय और फलों के रस) के क्षेत्रों में हैं।

 महासागर और मत्स्य पालन विवाद

  • पाक जलडमरूमध्य में मछली पकड़ने गए भारतीय मछुआरों पर गोलीबारी की कई घटनाओं से श्रीलंका की नौसेना कर्मियों पर प्रश्न उठा है।
  • भारतीय मछुआरों की यंत्रीकृत ट्रॉलर का उपयोग करने के कारण यह मुद्दा पैदा हो गया है। जो उनके मछली पकड़ने के लिए तमिलों सहित श्रीलंकाई मछुआरो के भूभाग में रवाना होते है।
  • ये यंत्रीकृत ट्रॉलर उनकी मछली पकड़ने की नौकाओं और पारिस्थितिकी को नुकसान पहुँचाते हैं।
  • श्रीलंका सरकार भारत द्वारा पाक जलडमरूमध्य क्षेत्र में यंत्रीकृत ट्रॉलर के उपयोग पर प्रतिबंध लगाना चाहता है
  • भारत सरकार ने हमेशा श्रीलंका सरकार के साथ प्राथमिकता के आधार पर भारतीय मछुआरों की सुरक्षा की मांग की है।
  • 20 जनवरी, 2011 को भारत ने आधिकारिक तौर पर भारतीय मछुआरों पर हमलों में उनकी कथित संलिप्तता के लिए श्रीलंका की नौसेना के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया।
  • यहां तक कि आधिकारिक विरोध के बाद भी एक और मछुआरे की 22 जनवरी 2011 को क्रूर तरीके से हत्या कर दी गयी थी।
  • 730 से अधिक मछुआरे पिछले 30 वर्षों में मारे जा चुके हैं।
  • दोनों देशों के बीच विवाद भारत में घरेलू राजनीतिक कारणों से जटिल है।
  • भारतीय मछुआरों के अधिकांश अवैध रूप से श्रीलंकाई जल में मछली पकड़ने पर पकड़े गए है जोकि तमिलनाडु के दक्षिण भारतीय राज्य से जातीय तमिल हैं और उन लोगों का तर्क है कि श्रीलंका द्वारा जिस जल पर दावा किया गया है वह ऐतिहासिक दृष्टि से तमिल मछुआरों से शोषित किया गया है।

 नवीनतम घटनाक्रम

  • मछुआरों के मुद्दे पर एक लंबे समय से स्थायी समाधान खोजने के लिए भारत और श्रीलंका ने वार्ता आयोजित की
  • भारत, यंत्रीकृत ट्रॉलर को उपयोग से बाहर करने के लिए सहमत हो गया है जोकि मुख्य रूप से एक वर्गीकृत समयबद्ध ढंग से तमिलनाडु के मछुआरों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है।
  • भारत की ओर से किये गए अनुरोध पर तुरंत एक दूसरे की हिरासत में लिए गए मछली पकड़ने की नौकाओं को रिहा करने पर श्रीलंका का विचार करना अभी बाकी है।
  • दोनों देशों में एक दूसरे की हिरासत में लिए गए मछुआरों को रिहा करने के लिए एक मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) की स्थापना करना होगा।
  • दोनों देशों ने मछली पालन पर एक संयुक्त कार्य समूह (जेडब्ल्यूजी) तथा अपने कोस्ट गार्ड के बीच हॉटलाइन स्थापित करने के लिए सहमत हो गए हैं जोकि तमिलनाडु के मछुआरों की लंबे समय से मौजूदा मुद्दे का समाधान करने के लिए है।
  • जेडब्ल्यूजी जनवरी 2017 की शुरुआत से हर तीन महीने में मिलेंगे।
  • दूसरी ओर, मत्स्य पालन के मंत्री इस लम्बे मुद्दे पर चर्चा करने के लिए नौसेना और तटरक्षक बल के प्रतिनिधियों के साथ हर छह महीने में मिलेंगे।
  • दोनों देशों ने दोनों पक्षों के गिरफ्तार मछुआरों को लौटने के लिए प्रक्रियाओं को ईजाद करने के लिए कहा है।
  • एक ही समय में, दोनों पक्ष जब्त नावों के मुद्दे को हल करने में विफल रहे है जोकि तमिलनाडु में एक भावनात्मक मुद्दा रहा है ।

Leave a Reply