india bangladesh relations hindi
print
26 मार्च, 1971 को पाकिस्तान सेना उस भारतीय पक्ष से हार गई जिसने बांग्लादेश के निर्माण का नेतृत्व किया। 1972 में, भारत और बांग्लादेश ने मैत्री संधि पर हस्ताक्षर किए। भारत ने बांग्लादेश को आजादी हासिल करने और अपने संबंधों का 4 दशकों से अधिक समय तक समर्थन किया। वर्तमान में दोनों देशों के मध्य सौहार्दपूर्ण संबंध है।

भारत और बांग्लादेश के बीच प्रमुख मुद्दे क्या हैं? 

1. फरक्का बैराज

  • हुगली नदी में पानी की आपूर्ति में वृद्धि के लिए भारत द्वारा फराक्का बैराज का निर्माण और संचालन का एक बड़ा दायित्व रहा है।
  • बांग्लादेश जोर देकर कहता हैं कि सूखे के मौसम के दौरान गंगा जल का उचित हिस्सा नहीं मिल पाता है और मानसून के दौरान जब भारत अतिरिक्त पानी जारी करता है तो बाढ़ आ जाती है ।

Bangladesh Liberation War– Role of India in the War in Hindi

2. आतंकवाद

  • बंग सेना और हरकत-उल-जिहाद-अल-इस्लामी (हूजी) जैसे दोनों देशों में स्थित संगठनों द्वारा किए गए आतंकवादी गतिविधियां प्रमुख है। हाल ही में भारत और बांग्लादेश आतंकवाद से लड़ने के लिए संयुक्त रूप से सहमत हुए थे।

3. पारगमन सुविधा

  • बांग्लादेश ने लगातार भारत के भूमिआबद्ध उत्तर पूर्वी क्षेत्रों में पारगमन की सुविधा के लिए इंकार किया है। यद्यपि भारत के पास इस पूर्वी क्षेत्र के लिए एक संकीर्ण भूमि लिंक है, जिसे प्रसिद्ध रूप से सिलीगुड़ी कॉरिडोर या “भारत की चिकन नेक” के नाम से जाना जाता है।

India-Pakistan Relations 2014 Onwards

4. अवैध प्रवासी

  • भारत में अवैध बांग्लादेशी प्रवासन एक प्रमुख मुद्दा है, वस्तुतः सीमा कुछ क्षेत्रो मे खुली हुई है जिसके कारण प्रवासियों द्वारा इसे अवैध रूप से पार किया जाता हैं तथा कभी-कभी केवल सीमा सुरक्षा कर्मियों को वित्तीय या अन्य प्रोत्साहन प्रदान करके भी इसे अवैध रूप से पार किया जाता है, हालांकि बांग्लादेशी अधिकारियों ने भारत में रहने वाले बांग्लादेशियों के अस्तित्व से इंकार कर दिया है।
  • भारत और बांग्लादेश दोनों देशों में पारस्परिक समझ है कि वे एक ही पड़ोस का हिस्सा हैं और भारतीय पक्ष द्वारा उठाए गए विभिन्न पहलों पर दोनों अच्छी तरह से काम कर रहे हैं।
  • बांग्लादेश, भारत की ”एक्ट-ईस्ट पालिसी” के लिए एक महत्वपूर्ण संबंधी है, और यहां तक कि भारत-बांग्लादेश और म्यांमार के मजबूत त्रिपक्षीय संबंधों के कुछ प्रस्ताव भी हैं, जैसे कि गैस पाइपलाइन (हालांकि वर्तमान सुरक्षा स्थिति इसे अनुमति नहीं दे सकती है)।
  • दोनों देश दक्षिण-पूर्व एशिया और चीन के साथ दक्षिण एशिया की कनेक्टिविटी का विस्तार करने की तलाश में कई समूहों का भी हिस्सा हैं, इनमें मेकांग गंगा सहयोग पहल, बिम्सटेक, और बीसीआईएम (बांग्लादेश-चीन-भारत-म्यांमार) आर्थिक गलियारा परियोजना शामिल है।

Leave a Reply