financial year format hindi
print
2 मई 2017 को अप्रैल-मार्च से बदल कर जनवरी-दिसंबर के वित्तीय वर्ष के प्रारूप में बदलने वाला मध्य प्रदेश पहला राज्य बन गया है।

कारण

  • प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में दिल्ली में नीती आयोग की शासी परिषद की बैठक के दौरान जनवरी से दिसंबर तक वित्तीय वर्ष में बदलाव के लिए एक पिच बनाया था।
  • चूंकि भारत मुख्य रूप से कृषि आधारित अर्थव्यवस्था रहा है इसलिए कृषि क्षेत्र में राजस्व चक्र आम तौर पर अप्रैल से मार्च तक है। विशेषज्ञों के मुताबिक अप्रैल-मार्च चक्र मुख्य रूप से कृषि राजस्व चक्र से मेल खाता था और वित्तीय लेनदेन को आसान बनाता था ।
  • विशेषज्ञों ने वित्तीय वर्ष को जनवरी-दिसंबर कैलेंडर वर्ष के साथ समन्वयित करते हुए अन्य विकसित देशों के साथ संरेखित किया है तथा वो राष्ट्र भी इसी प्रारूप में काम करते हैं।
  • बजट की तारीखों में बदलाव का उल्लेख करते हुए मोदी ने कहा कि ऐसे देश में जहां कृषि की आय अत्यंत महत्वपूर्ण है वहाँ के बजट को उस वर्ष के कृषि आय प्राप्त होने के तुरंत बाद तैयार किया जाना चाहिए।

Also Read: This state has become the first to change the financial year format to Jan-Dec

सरकारी समिति

  • सरकार ने पिछले साल एक नये वित्तीय या वित्तीय वर्ष की वांछनीयता और व्यवहार्यता की जांच के लिए एक चार सदस्यीय समिति की स्थापना की थी। इसकी अध्यक्षता में पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार शंकर आचार्य थे।

Also read: मध्य प्रदेश: खुशी सूचकांक तैयार करने वाला राज्य  

लागू करना

  • मध्य प्रदेश राज्य मंत्रिमंडल का यह निर्णय है कि अगले वित्त वर्ष का बजट सत्र अब दिसंबर-जनवरी में आयोजित किया जाएगा।
  • जनवरी से दिसंबर तक वित्तीय वर्ष के स्वरूप को बदलने का मतलब टैक्स निर्धारण वर्ष एवं बुनियादी ढांचे में परिवर्तन विशेषतः कंपनी के स्तर पर होना चाहिए।
  • एक व्यक्ति के लिए वित्तीय वर्ष 1 जनवरी से शुरू होगा और 31 दिसंबर को समाप्त होगा। जनवरी-दिसंबर वित्तीय वर्ष में होने वाले परिवर्तन का मतलब होगा कि किसी भी व्यक्ति को उसी वर्ष के अंत तक करों का भुगतान करना होगा।इसके अलावा, आईटीआर फाइलिंग में बदलाव आएगा, जो 31 जुलाई की बजाय बदल कर 31 मार्च हो सकता है जोकि वर्तमान में दाखिल करने का आखिरी दिन होता है।
  • जनवरी से दिसम्बर की अवधि में स्थानांतरण, वित्तीय वर्ष और तिमाहियों के भ्रम को दूर करेगा जिससे अब वित्तीय लेन-देन के समय को याद रखना आसान होगा।

हानि

  • एसोचैम के मुताबिक वित्तीय वर्ष में बदलाव का अर्थ केवल पुस्तक बदलने से ही नहीं बल्कि लेखा सॉफ्टवेयर की पूरी अवसंरचना, कराधान प्रणाली, मानव संसाधन प्रथाये जो बड़े और छोटे दोनों उद्योगों के लिए भारी लागत से शामिल है, उन्हें बदलना पड़ेगा जिससे अनावश्यक बाधाएं और नौकरशाही तथा प्रणालीगत विलंब पैदा होंगे।

 

Note: Want to share this story with someone? Just click on the icons below.

Leave a Reply