demonetization in hindi
print
  • 8 नवंबर 2016 को भारत सरकार ने ₹ 500 और ₹ 1000 के नोटों के विमुद्रिकरण (demonetization) की नीति को लागू किया।
  • 8 नवम्बर 2016, एक अनिर्धारित घोषणा में भारत के प्रधानमंत्री ने महात्मा गांधी श्रृंखला के सभी संचलन में प्रभावी ₹ 500 और ₹ 1000 के नोटों को उसी ही दिन की आधी रात से अवैध घोषित किया।
  • उन्होंने पुराने नोटों के बदले में नए ₹ 500 और ₹ 2000 महात्मा गांधी की नई श्रृंखला के नोटों को जारी करने की घोषणा की।
  • हालांकि, महात्मा गांधी श्रृंखला के ₹ 100, ₹ 50, ₹ 20,₹ 10 और ₹ 5 के मूल्यवर्ग के नोट कानूनी निविदा बने रहे तथा इस नीति से अप्रभावित थे।
  • सभी मूल्यवर्ग के नोटों की आपूर्ति में 2011 और 2016 के बीच 40% की वृद्धि हुई थी, जालसाजी के कारण ₹ 500 और ₹ 1000 नोटों में इस अवधि के  दौरान 76% और 109% क्रमशः की वृद्धि हुई। यह जाली नकदी तब भारत के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों के निधि के लिए इस्तेमाल किया गया था।
  • सरकार ने दावा किया है कि विमुद्रिकरण की कार्रवाई वर्तमान में पैसों द्वारा आतंकवाद को आर्थिक सहायता के लिए कथित तौर पर इस्तेमाल की जालसाजी को रोकने के साथ ही देश में काले धन के खिलाफ एक प्रयास है।
  • इस कदम को तस्करी, नशीली दवाओं के उपयोग और भ्रष्टाचार को कम करने के प्रयास के रूप में वर्णित किया गया।

परिणाम

  • पुराने पैसों को पकड़े हुए लोगो को अपने नोटो को बदलने के लिए अराजक कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, नकदी की कमी के कारण 9 नवंबर के बाद से बैंकों और एटीएम के बाहर अनंत कतारे लगी।
  • देश भर में आधे एटीएम गैर कार्यात्मक थे और कार्यात्मक होने के कुछ घंटों के बाद नकदी- रहित चल रहे थे।
  • कई लोगों की अपने पुराने पैसों को बदलने के लिए घंटों कतार में खड़े होने से मृत्यु होने की सूचना मिली। कुछ लोगों की मृत्यु अस्पतालों द्वारा पुराने पैसों के इनकार के कारण चिकित्सा सहायता में कमी को जिम्मेदार ठहराया गया
  • गुजरात, दिल्ली और कई अन्य प्रमुख शहरों में, सोने की बिक्री में 9 नवंबर को वृद्धि हुई है, 20 से 30% वृद्धि के रूप ₹ 31,900 प्रति 10 ग्राम की स्थिर कीमत से ज्यादा के रूप में ₹ 45,000 तक कीमत बढ़ गयी।
  • वेल्लोर में श्री जलकंटेस्वर मंदिर के अधिकारियों ने मंदिर हुंडी से ₹ 44 लाख की नकदी निकाली।
  • बड़े काले धन वाले लोगों ने इसे सफेद करने के लिए अलग बैंक शाखाओं में कई लेनदेन कर इसे परिवर्तित करना शुरू कर दिया।
  • अपने पैसे को बदल कर प्रतिबंधित मुद्रा की बड़ी मात्रा से छुटकारा पाने के लिए समूहों में लोगों को बैंक भेज रहे थे ।
  • इसके जवाब में सरकार ने घोषणा की है कि, यह  सुनिश्चित करने के लिए कि मुद्रा लेनदेन प्रत्येक व्यक्ति द्वारा केवल एक बार किया जाता है, अमिट स्याही के साथ ग्राहकों को अंकन करने की शुरुवात होगी।
  • 17 नवंबर को, सरकार को काले धन को वैध पैसे में परिवर्तित करने के प्रयास को हतोत्साहित करने के लिए बदलने की मात्रा को ₹ 2000 तक कम किया ।
  • जैसे ही विमुद्रिकरण की घोषणा की गयी उसी समय बेहिसाब नकदी से छुटकारा पाने के लिए लोगो द्वारा 1 ए और 2A में सबसे लंबी संभव दूरी के लिए रेलवे टिकट बुकिंग करते देखा गया।
  • विमुद्रीकृत नोटों का नगर निगम और स्थानीय निकाय करों के भुगतान के लिए सरकार द्वारा प्रयोग की अनुमति दी गई।
  • लोगो द्वारा प्रतिबंधित ₹ 500 और ₹ 1000 नोटों का उपयोग करने से स्थानीय अधिकारियों के राजस्व संग्रह में एक बड़ी छलांग देखने को मिली।

अर्थव्यवस्था और विभिन्न क्षेत्रों पर प्रभाव

शेयर बाजार

  • विमुद्रीकरण और अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव की घोषणा के बाद एक संयुक्त प्रभाव के रूप में शेयर बाजार के सूचकांक एक सप्ताह में छह माह के निचले स्तर पर गिरे।
  • 15 नवंबर 2016 को इंट्रा डे ट्रेडिंग अनुभाग के अंत तक बीएसई सेंसेक्स सूचकांक 565 अंक से और निफ्टी 50 सूचकांक 8100 से नीचे था।

बैंकिंग

  • इस कदम की घोषणा के बाद पहले चार दिनों में पुराने ₹ 500 और ₹ 1000 नोटों के रूप में लगभग 3 ट्रिलियन रूपए बैंकिंग प्रणाली में जमा किये गये।
  • करीब 500 अरब रुपये बैंक खातों, एटीएम के साथ ही बैंक काउंटरों पर बदल कर एवं निकासी के माध्यम से बाँटे जा चुके है।
  • इन चार दिनों के भीतर, बैंको से लगभग 180 मिलियन लेनदेन हो चुका है।
  • मालदा में एक जिले में जहाँ नकली भारतीय मुद्राओं के लिए एक पारगमन बिंदु माना जा रहा है वहाँ निष्क्रिय खातों में एक बड़ी राशि नकदी जमा होने की सूचना प्राप्त हुई।
  • मुद्राओं के संपूर्ण विनिमय के पश्चात् बैंकों को अधिक जमा और लेनदेन की मात्रा, कैश हैंडलिंग की कम लागत और डिजिटल चैनलों की अधिक से अधिक स्वीकृति होने से लाभ होना चाहिए।
  • निफ्टी 1.31% नीचे बंद हुआ, जबकि बैंक निफ्टी 0.09% ऊपर की पुष्टि देकर बंद हुआ।
  • यह बैंकों के लिए संरचनात्मक रूप से सकारात्मक है, इस नकदी का हिस्सा चालू खाता और बचत खाता (CASA) में जमाओं के रूप में जमा हो जाता है तथा उच्च लागत उधार के लिये बैंको पर निर्भरता को कम कर रहा है ।
  • भुगतान बैंकों और अन्य संस्थाये जो लेन-देन के पारिस्थितिकी तंत्र का हिस्सा हैं उन्हें लंबी अवधि के लिए लाभार्थी होने की संभावना है, यह अधिक से अधिक नकदी औपचारिक बैंकिंग चैनलों में पाता है।

काला धन

  • ₹ 500 और ₹ 1000 के नोटों के रूप में जमा काला धन हमारे सिस्टम से बाहर हो जायेगा। यह  लगभग 4.6 लाख करोड़ ₹ काला धन के रूप में उजागर करेंगा।

आतंक अनुदान और अवैध गतिविधि

  • नकली भारतीय करेंसी नोटों (एफआईसीएन) का नेटवर्क विमुद्रीकरण के उपायों द्वारा ध्वस्त कर दिया जाएगा
  • जम्मू-कश्मीर और उत्तर-पूर्वी राज्यों में आतंक के वित्त पोषण की गतिविधियों, नक्सल प्रभावित राज्यों में 500 और 1000 के नोट को प्रचलन से बाहर करने से इन सब पर रोक लगेगी ।
  • 10 नवंबर को पुलिस ने रांची में एक पेट्रोल पंप के मालिक को गिरफ्तार कर लिया जब उसने कथित तौर पर एक प्रतिबंधित भारत के कम्युनिस्ट पार्टी से संबंधित किसी व्यक्ति के 2.5 अरब ₹ जमा करने की कोशिश की थी ।
  • 300 से अधिक नक्सलियों ने धन की कमी के कारण पुलिस के समक्ष स्वेच्छा से आत्मसमर्पण कर दिया है।

रियल एस्टेट

  • काला धन महानगरों में संपत्तियों की एक तेज सराहना के लिए जिम्मेदार था, रियल एस्टेट की कीमतों में अब तेजी से गिरावट देखा जा सकता हैं।
  • जबसे अधिकतर लोग बैंक ऋण द्वारा समर्थित धन देने से पीछे हट गए तब से अंतिम उपयोगकर्ताओं में रियल एस्टेट की मांग के प्रभावित होने की संभावना है।
  • निवेशकों की अचल संपत्ति के लिए मांग शायद कुछ मामलों में आने के बाद नीचे हो सकती है जिनमे निवेशक नकद लेनदेन पसंद करते हैं।
  • खरीदारों की संख्या में कमी आएगी और कम मांग अल्पावधि में कम कीमते लाने वाला होगा, जिससे बाद में इस क्षेत्र की संभावनाओं में सुधार लाने में मदद मिलेगी।

राजनीतिक दल

  • 2017 में करीब पांच राज्यों के चुनाव के साथ विमुद्रिकरण से राजनीतिक दल दंग रह गये है।
  • चुनाव और राजनीतिक दल काले धन के प्रमुख स्रोत हैं। पंजाब और उत्तर प्रदेश जैसे बड़े राज्यों में नकद दान “चुनाव प्रबंधन” का एक बड़ा हिस्सा हैं।
  • राजनीतिक दलों का सबसे अधिक वित्तपोषण नकद में होता है और वे इस तरह के धन के 90% से अधिक के स्रोतों का खुलासा कभी नहीं करते हैं।
  • एक विधानसभा सीट के उम्मीदवार के चुनाव प्रचार पर औसत ₹ 4-5 करोड़ खर्च होता है, जिसके काफी नीचे जाने की संभावना है।

सकल घरेलू उत्पाद पर प्रभाव: जीडीपी ग्रोथ के लिए मायूस पूर्वाग्रह

  • कम खपत, आय, निवेश आदि के द्वारा भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाली सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था होने की अपनी स्थिति को जोखिम में लेता है, तरलता प्रभाव के रूप में यह भारत की सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर को कम कर इसे 3-4 महीने पीछे कर सकते हैं।
  • पैसे की आपूर्ति में अचानक गिरावट और बैंक में जमा राशि में एक साथ वृद्धि से लघु अवधि में अर्थव्यवस्था में खपत की मांग पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।
  • अचल संपत्ति और अनौपचारिक क्षेत्रों के प्रतिकूल प्रभाव एक साथ मिलकर जीडीपी के विकास दर को कम करने की तरफ बढ़ सकते हैं।

  डिजिटल भुगतान

  • नकद लेनदेन में कमी का सामना करने के साथ ही भुगतान के वैकल्पिक रूपों के मांग में वृद्धि दिखेगी।
  • डिजिटल लेनदेन प्रणाली, ई-वॉलेट और ऍप, ई-बैंकिंग, प्लास्टिक मनी, आदि कि निश्चित रूप से मांग में काफी वृद्धि दिखेगी। इसे इस तरह के सिस्टम और आवश्यक ढांचे को मजबूत बनाने के लिए बढ़ाना चाहिए।
  • पॉइंट ऑफ़ सेल (पीओएस) या कार्ड स्वाइप मशीनों के लिए मांग बढ़ गई है।
  • 9 नवंबर 2016 को डेबिट कार्ड से लेनदेन में 108% और क्रेडिट कार्ड से लेनदेन में 60% की वृद्धि हुई।

अन्य प्रभाव

  • नितिन गडकरी (परिवहन मंत्री) ने बाद में 11 नवंबर के आधी रात तक भारत भर में सभी राष्ट्रीय राजमार्गों पर टोल संग्रह के निलंबन की घोषणा जिसका 14 नवंबर, 18 नवंबर, और 2 दिसंबर तक विस्तार हुआ।
  • पुराने वाहनों के लिए मूल उपकरण निर्माताओं के बाजार में बिक्री प्रभावित होगी ।
  • दिहाड़ी मजदूर, दूसरे मजदूरों, छोटे व्यापारियों आदि जो औपचारिक अर्थव्यवस्था से बाहर रहते है वो अक्सर नकदी का उपयोग करते है, ये वर्ग तरल नकदी के अभाव में अपनी आय खो देंगे।
  • निजी शिक्षण संस्थानों के बाद से, चिकित्सा संस्थानों, अस्पतालों में जो 40% से 50% डोनेशन की भारी मात्रा नकद में लेते है, उम्मीद है कि इस कदम से उनकी प्राप्तियों पर असर होगा।
  • अल्पावधि के निवेशक अब यह विश्वास करेंगे कि नकदी सबसे सुरक्षित संपत्ति नहीं है और इस तरह से उन्हें भौतिक संपत्ति से वित्तीय संपत्ति में बदलेंगे जहां रिटर्न भी अधिक होता है।
  • मुद्रा के एक नये रूप लेने से व्यापार के बाहर के शेयरबाजारों, सट्टा बाजार और अवैध सट्टेबाजी बाजार स्वाभाविक मौत मर सकते।
  • आयकर विभाग ने शहरों कि विभिन्न अवैध ,टैक्स-गोलमाल करने वाले व्यवसायों पर छापा मारा जो विमुद्रीकृत मुद्रा के साथ कारोबार करते थे तथा नकदी की बड़ी रकम देश के विभिन्न भागों में जब्त किए गए है।

Leave a Reply