Class 6 Ch 5 History
print

पुस्तकें

वेद

वेद 4 हैं : ऋग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद।

ऋग्वेद

  • यह लगभग 3500 साल पहले रचित सबसे पुराना वेद है।
  • इसमें विभिन्न देवी-देवताओं की प्रशंसा में रचित एक हज़ार से अधिक स्त्रोत्र शामिल हैं, जिन्हें सूक्त या स्तुति कहा जाता है। इनकी रचना ऋषियों ने की थी।
  • तीन देवता महत्वपूर्ण हैं- अग्नि: अग्नि के देवता; इंद्र: एक योद्धा भगवान; और सोम: एक पौधा जिससे एक विशेष पेय तैयार किया जाता था।
  • ऋग्वेद प्राचीन या वैदिक संस्कृत में है।
  • ऋग्वेद पढ़ने के बजाय गाया और सुनाया जाता है।
  • इसकी रचना होने के कई शताब्दियों बाद 200 से भी कम साल पहले इसे पहली बार लिखा गया था।

ऋग्वेद में स्त्रोतों के विषय

  • मवेशियों, बच्चों (विशेष रूप से बेटों) और घोड़ों के लिए कई प्रार्थनाएं हैं।
  • पशुओं, भूमि, पानी और लोगों पर कब्जे के लिए युद्ध लड़े गए।
  • इस तरह हासिल संपत्ति का एक हिस्सा नेताओं द्वारा रखा जाता था, कुछ पुजारियों को दिया जाता था और बाकी लोगों में वितरित किया जाता था।
  • कुछ धन का उपयोग यज्ञ करने या बलि के लिए भी किया जाता था।
  • कोई नियमित सेना नहीं थी, लेकिन वहाँ बैठकें थीं जहाँ लोग मिलते थे और युद्ध और शांति के मामलों पर चर्चा करते थे।

लोगों के वर्णन के लिए शब्द

  • ब्राह्मण : पुजारी जो विभिन्न अनुष्ठान करते थे।
  • राजा : लेकिन उनके पास न तो राजधानियां थीं, न महल और सेनाएँ थीं और न ही वे कर एकत्र करते थे। आमतौर पर पुत्र स्वतः पिता के बाद राजा नहीं बन जाते थे।
  • जन : समग्र रूप में लोग या समुदाय।
  • विश : वैश्य शब्द का उद्गम विश से हुआ।
  • कई बार, स्त्रोतों की रचना करने वाले लोगों ने खुद को आर्य और अपने विरोधियों को दास या दस्यु के रूप में वर्णित किया।
  • दास या दस्यु वे लोग थे जो बलि नहीं देते थे और शायद अलग भाषाएं बोलते थे।

    http://Class 6 Ch 12 History- Buildings, paintings & books

अन्य पुस्तकें

  • ऋग्वेद के बाद जिन पुस्तकों की रचना की गई, उन्हें अक्सर लेटर वैदिक कहा जाता है।
  • इनमें सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद शामिल हैं।
  • ये पुजारियों द्वारा रचित थे और इनमें यह वर्णन किया गया था कि अनुष्ठान कैसे किये जाने हैं।
  • उनमें समाज के बारे में नियम भी थे।

कब्र (समाधी)

मेगालिथ

  • पत्थर के बोल्डरों को लोगों द्वारा सावधानीपूर्वक व्यवस्थित किया जाता था और दफन स्थलों को चिह्नित करने के लिए उपयोग किया जाता है, इन्हें मेगालिथ के रूप में जाना जाता था।
  • मेगालिथ स्थापित करने की प्रथा लगभग 3000 साल पहले शुरू हुई थी और पूरे दक्षिण-भारत में, उत्तर-पूर्व और कश्मीर में प्रचलित थी।
  • कुछ मेगालिथ सतह पर, जबकि अन्य अक्सर भूमिगत होते हैं।
  • आम तौर पर, मृत को विशिष्ट बर्तनों के साथ दफनाया जाता था जिन्हें ब्लैक और रेड वेयर कहा जाता है।
  • इनमें लोहे के औजार और हथियार, घोड़ों के कंकाल, घोड़े के उपकरण और पत्थर और सोने के आभूषण भी मिले।
  • कंकाल के साथ मिली वस्तुएं दफन किए गए लोगों के बीच स्तर के अंतर को इंगित करती थी।

    http://Class 6 Ch 7 History- New questions and ideas

इनामगांव की विशेष समाधियां

  • यह साइट पर 3600 से 2700 साल पहले थी।
  • वयस्कों को आम तौर पर जमीन के नीचे सीधे लिटा कर उत्तर की ओर सिर कर के दफन किया जाता था।
  • कभी-कभी घरों के भीतर दफनाया जाता था।
  • बर्तन, जिनमें संभवतः भोजन और पानी रहता था , मृतकों के साथ रखे जाते थे।

चरक

  • लगभग 2000 साल पहले एक प्रसिद्ध चिकित्सक चरक ने चिकित्सा पर चरक संहिता नामक ग्रन्थ लिखा था।
  • उन्होंने बताया था कि मानव शरीर में 360 हड्डियां हैं, जो आधुनिक शारीरिकी द्वारा पहचानी गयी हड्डियों की संख्या की तुलना में बहुत ज्यादा है।
  • वह दांत, जोड़ों और उपास्थि की गिनती करके इस आंकड़े पर पहुंचे।

Leave a Reply