canola potential hindi
print
हालांकि, आनुवंशिक रूप से संशोधित (जीएम) सरसों का व्यावसायिक उपयोग का विवादो का सामना करना जारी है फिरभी लुधियाना में स्थित पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) किसानों को तेल उत्पादन और बेचने के लिए आला क्षेत्रों में “कैनोला गांवों” के विकास के द्वारा केनोला के खेती को अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है।

कैनोला क्या है?

  • कैनोला सरसो का एक अंतरराष्ट्रीय व्यापार नाम है जिसमे इरोकिक एसिड सबसे निचले स्तर में होता है – 2% से भी कम तथा इसे तेलो के स्वास्थ्यप्रद विकल्पों में से एक माना जाता है।
  • विशेषज्ञों द्वारा यह माना जाता है कि कैनोला पंजाब में “पीले क्रांति” का नेतृत्व करने के लिए उपलब्ध सर्वोत्तम संभव विकल्पों में से एक है जिससे यह क्षेत्र देश के कैनोला केंद्र के रूप में उभर सकता है।

Read in English: Canola Oil production and its potential

स्वास्थ्य के मुद्दे

  • स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं और जागरूकता में वृद्धि के चलते अब देश भर में कैनोला तेल की बढ़ती हुई मांग हो रही है।
  • 2014-15 के दौरान, भारतीय बाजारों में करीब 3,56,000 टन केनोला तेल आयात कर बेच दिया गया।

किसानों के लिए लाभ

  • पंजाब में किसानों को कैनोला तेल की बढ़ती मांग से फायदा हो सकता है क्योंकि राज्य कैनोला (सरसों और सफ़ेद सरसो) की खेती के क्षेत्रो में से एक महत्वपूर्ण क्षेत्र है।
  • गोभी सरसों (रैपसीड) की उच्च गुणवत्ता वाला अंतरराष्ट्रीय मानक कैनोला के गुणवत्ता वाले किस्मों को जारी किया गया है, जैसे-जीएससी -6, जीएससी -7 और सरसों आरएलसी -3।
  • ये पूरे देश के कैनोला तेल की मांग को पूरा करने में सक्षम हैं।
  • पंजाब में 30,000 हेक्टेयर में रेपसीड-सरसों का बोया गया था जिसका 2014-15 के दौरान 38,000 टन से अधिक का उत्पादन हुआ।
  • व्यापार शर्तों के मुताबिक, टोरीया, गोबी सरसों और तारामीरा को रैपसीड के रूप में वर्गीकृत किया गया है, जबकि राया और अफ्रीकी सरसों को सरसों के रूप में वर्गीकृत किया गया है।

पैदावार क्षमता

  • जीएससी -7 ने उत्कृष्ट उपज क्षमता का प्रदर्शन किया है। यदि समय पर बोया जाता है तो जीएससी -7 का आर्थिक लाभ कम से कम गेहूं के बराबर हो सकता है।
  • इसके अलावा देश की पहली पीले बीज वाले कैनोला-गुणवत्ता वाली भारतीय सरसों की किस्म आरएलसी -3 भी जारी की गई है तथा पीएयू में इन बीजों की कोई कमी नहीं है और किसान उन्हें न्यूनतम कीमत पर प्राप्त कर सकते हैं।
  • देश की वार्षिक खाद्य तेल की मांग लगभग 22 मिलियन टन है और यह प्रति वर्ष 3% से 4% तक बढ़ रही है, लेकिन भारत में कुल खाद्य तेल की मांग का केवल 40% हिस्सा मिलता है। इस बढ़ती मांग और आपूर्ति के अंतर के लिए अन्य देशों से बड़े आयातो की आवश्यकता होती है।
  • 2015-2016 के दौरान भारत ने 75,000 करोड़ रुपये के अनुमानित व्यय में 16 मिलियन टन खाद्य तेल का आयात किया। इस परिदृश्य के तहत खाद्य तेल क्षेत्र में आत्मनिर्भरता प्राप्त कर वर्तमान घाटे को कम करना तथा बढ़ती आबादी के लिए खाद्य तेल की सुरक्षा को सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है।

कैनोला खेती की समस्याएं

  • हालांकि, सरकारी एजेंसियो से उत्पाद के लिए मिलने वाले आश्वस्त मूल्य के अभाव में और निश्चित बाजार न होने के कारण किसानो को संदेह रहता है |
  • कैनोला गेहूं के लिए एक व्यवहार्य विकल्प है, लेकिन एकमात्र समस्या आश्वासित लाभ प्राप्त होने की है।
  • अगर सरकार आश्वासन खरीद सुनिश्चित करने के लिए एक प्रभावी प्रणाली स्थापित करती है तो कैनोला की खेती पंजाब में हो सकती है।
  • रबी (सर्दियों) के मौसम में पंजाब के अधिकांश क्षेत्र में गेहूं की फसल होती है तथा किसान आश्वासन वाले बाजार, कम जोखिम वाले कारकों और बड़े पैमाने पर मैकेनाइज्ड खेती तकनीक के कारण किसी अन्य फसल को अपनाने के लिए तैयार नहीं होते हैं। सरसों की खेती ज्यादा श्रमयुक्त है, खासकर फसल के दौरान निराई के वक्त अत्यधिक श्रम की आवश्यकता होती है।

कैनोला तेल लाभ में वृद्धि कर सकता है

  • जबकि कोनोला बीज को मंडी में बेचा जा सकता हैं, कैनोला से तेल निकालने से किसानों को लाभ में मदद मिल सकती है।
  • केनोला व्यापार स्थानीय स्तर पर अच्छी क्षमता रखता है क्योंकि हर घर में खाद्य तेल की जरूरत होती है। बढ़ती हुई स्वास्थ्य जागरूकता के साथ, अधिकांश लोग गुणवत्ता वाले उत्पादों के लिए भुगतान करने के लिए भी तैयार हैं।

फसल विविधीकरण

  • कैनोला की खेती को अपनाने से फसल विविधीकरण को प्रोत्साहन मिलेगा जिसकी पंजाब को तत्काल जरूरत है
  • कुछ समय के लिए फार्म विशेषज्ञ पंजाब में फसल विविधीकरण के लिए जोर दे रहे हैं। वे सरकार से गहन पानी वाले धान (चावल) की खेती को कम करने के लिए कदम उठाने के लिए भी आग्रह कर रहे हैं जिससे पानी की मात्रा में कमी की जाँच हो सके।

Leave a Reply